Baaz Bird

Baaz Bird Motivational Story in Hindi शिकारी और बाज़ की कहानी

नमस्कार दोस्तों आज की इस पोस्ट में आपका स्वागत है आज मैं आपको शिकारी और Baaz Bird की ऐसी कहानी बताने जा रहा हूँ जिससे आप समझ पाएंगे मुश्किल समय में हमें किस तरह से सोचना चाहिए और किस पर विश्वास करना चाहिए ।

और हमें कैसे किसी के बातों से सतर्क रहना चाहिए जिससे हमें आगे चलकर किसी भी तरह का पश्चतावा न हो। दोस्तों आज की इस कहानी से बहुत कुछ सिखने को मिलेगा और ये कहानी दिलचस्प व जबरदस्त होने वाला है अंत तक जरूर पढ़े ।

शिकारी द्वारा Baaz का शिकार करना

बहुत समय पहले की बात है एक शिकारी जानवरों की शिकार करने जंगल में जाता था रोज की तरह वे शिकार करने जंगल की और निकल गया लेकिन उस दिन शिकारी दिन भर घूमता रहा एक भी जानवर नहीं दिखे जिससे वे चिंतित हो कर एक पेड़ के नीचे छाँव में बैठ गया और सोचने लगा आज शिकार नसीब नहीं होने के कारण मेरे पुरे परिवार को भूखा रहना पड़ेगा ।

यह सोचते वक़्त उसकी नजर सामने एक पेड़ की डाली पर पड़ती है उस डाली पर बाज़ चिपक कर बैठा रहता है उस बाज़ को देख शिकारी सोचने लगता है क्यों ना आज मेरे और मेरे परिवार का भूख इस बाज़ से मिटाया जाय

शिकारी खुश होकर तीर लेकर दौड़ता हुआ बाज़ की तरफ जाता है तीर फेकके उस बाज को पकड़ लेता है और इसे लेकर शिकारी अपने घर की और जाने लगता है बाज़ छुड़ाने की बहुत कोशिश करता है ।

परन्तु छुड़ा नहीं पाता क्योंकि शिकारी कसके पकड़े रहता है थककर बाज़ शांत हो जाता है और शिकारी से कहने लगता है मुझे छोड़ दो कहाँ लेकर जा रहे हो तभी शिकारी कहता है मैं इस जंगल में रोज शिकार के लिए आता हूँ ।

और मेरे परिवार का पेट भरता हूँ आज बहुत कोशिशों के बाद तुम मिले हमारा आज का भोजन तुम्ही हो इसके बाद बाज़ सोच में पड़ जाता अब तो मेरा अंत समय आ गया अब करे भी तो क्या करे तभी मन में एक ख्याल आता है और वे बाज़ शिकारी से कहने लगता है मेरा आखिरी समय तो आ गया है क्या तुम मेरी अंतिम इच्छा पूरी कर सकते हो ।

शिकारी सोचता है और कहने लगता है तुम मुझसे छोड़ने के लिए तो नहीं कहोगे तभी बाज़ कहता है नहीं, नहीं कहूंगा । तो कहो तुम्हारी अंतिम इच्छा क्या है तभी बाज़ कहता है मैं तुम्हें जीवन की दो सिख देना चाहता हूँ क्या तुम सुनना चाहते हो शिकारी ने कहा हाँ इसे तो कुछ देना भी नहीं पड़ेगा दो अच्छी बात तो सुनने को मिलेगा ।

Baaz ने शिकारी को दो सिख दिए

बाज़ कहता है तो ठीक है मैं जो दो बातें बताने वाला हूँ इसे अपने जीवन में हमेशा याद रखना जीवन की पहली सिख यह है कि तुम कभी भी किसी के बातों पर वग़ैर सबूत के या देखे बिना या फिर बिना सोच विचार के किसी पर

विश्वास कभी मत करना और दूसरी बात यह है कि, खुद से कभी गलती हो जाए या तो अपने से कुछ छूट जाने पर दुखी मत होना न ही कभी निराश होना बाज़ कि इन दो बातों पर ध्यान दिए बिना शिकारी अपने घर कि तरफ आगे बढ़ता रहा कुछ देर बाद बाज़ फिर शिकारी से कहने लगता है ।

यदि मैं आपको एक ऐसी कीमती वस्तु दे दू जिसे पा कर अचानक अमीर हो जाओ क्या तुम मुझे स्वतंत्र कर सकते हो शिकारी बाज़ कि बात सुनकर हँसने लगता है और कहता है तुम मुझे क्या दे सकते हो तुम्हारे पास ऐसी कौन सी

वस्तु है जिसे पा कर मैं तुरंत अमीर हो जाऊ फिर बाज़ कहता है बहुत समय पहले कि बात है जब मैं एक सोनार के घर के आस – पास टहल रहा था तब एक चमकती हुई वस्तु दिखाई दी जब नजदीक जाकर देखा तो पता चला वह एक कीमती हीरा पड़ा था ।

Motivational Whatsapp Status Quotes – Images For Motivational

जिसे मैं उठा के लेकर गया और अपने घोसले में छुपा कर रखा हूँ यदि तुम मुझे मार डालोगे तो किसी काम का नहीं रहेगा इसीलिए मैं सोच रहा था क्यों न ये हीरा तुम्हे दे दू लेकिन इसके बदले मुझे छोड़ना पड़ेगा मुझे आजाद करना

होगा तभी मैं ये हीरा तुम्हे दे सकता हूँ इससे तुम्हारा गरीबी दूर होगा और तुम अमीर हो जाओगे बाज़ कि इस मीठी बात को सुनकर शिकारी हीरा के लालच में बाज़ को छोड़ देता है ।

जैसे ही बाज़ को छोड़ देता है बाज़ उड़ता हुआ बहुत बड़े पेड़ के डाली पर जाकर बैठ जाता है और शिकारी से कहने लगता है क्या वो दो बातें भूल गए जो मैं तुम्हे कुछ देर पहले ही बताया था किसी के बातों पर बहुत जल्दी

यकीन मत करना परन्तु मेरे उन बातों पर तुमने तो ध्यान ही नहीं दिया और मेरे बातों को बिना सोच विचार के ही यकीन कर लिया मैंने तो तुमसे झूट बोला अपने आपको आजाद कराने के लिए मेरे पास ऐसा कोई हीरा नहीं है ।

अब तो मैं तुम्हारी पकड़ से आजाद हो गया हूँ बाज़ कि बात सुनकर शिकारी बहुत ज्यादा निराश हो जाता है और वे अपने आपको कोसने लगता है तभी बाज़ बोलने लगता है तुमने मेरी दूसरी सिख भी भूल गए मैंने कहा था कुछ भी

गलत हो जाने या फिर छूट जाने पर कभी अपने आपको कभी निराश मत करना बाज़ कि इस बात को सुन शिकारी कि आँखे खुल गई इसकी बात अच्छे से समझ में आ गई शिकारी दूसरे शिकार कि तलाश में निकल गया और बाज़ आजाद हो गया।

बाज़ से हमें यह सिख मिलता है

दोस्तों हमारे जीवन में भी ये दो सिख हमेशा याद रखना चाहिए किसी भी व्यक्ति पर हमें आँख बंद करके विश्वास नहीं कर लेना चाहिए जिससे बाद में हमें पश्चताना पड़े यदि किसी कार्य में असफल भी हो जाते है तो दुखी और निराश कभी नहीं होना चाहिए उस अनुभव के आधार से सिख लेकर भविष्य में ऐसे बातों से सतर्क रहना चाहिए

दोस्तों आज कि यह कहानी आपको कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताये और अपने दोस्तों को भी शेयर कीजिये

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *